vic_logo
coronavirus.vic.gov.au

शिक्षा (Education) - हिन्दी (Hindi)

कोरोनावायरस (COVID-19) की अवधि के दौरान शिक्षा में परिवर्तन और माता-पिता व अभिभावकों के लिए समर्थन।

आपको हमारे Education – information for parents, students and educators पृष्ठ पर शिक्षा के बारे में अंग्रेज़ी में और अधिक जानकारी मिल सकती है।

यदि आपको अपनी भाषा में और अधिक सहायता की आवश्यकता है, तो आप टीआईएस नेशनल को 131 450 पर कॉल करके दुभाषिए के लिए निवेदन कर सकते/सकती हैं, और फिर कोरोनावायरस (COVID-19) हॉटलाइन से 1800 338 663 पर संपर्क कराने के लिए कह सकते/सकती हैं।

कोरोनोवायरस (COVID–19) के प्रकोप के दौरान अपने बच्चों से बात करना (Talking to your child about coronavirus)

यह मार्गदर्शिका आपको अपने बच्चे के साथ कोरोनावायरस (COVID–19) के बारे में बात करने में सहायता देगी। सुरक्षित और आश्वासन के साथ बातचीत करने के तरीकों के सुझावों के साथ–साथ सहायक संसाधनों के लिए कड़ियाँ भी दी गई हैं।

कोरोनावायरस (COVID–19) के बारे में बात करने में संकोच न करें

  • अधिकाँश बच्चों ने पहले से ही वायरस के बारे में सुना होगा और और माता–पिता व देखभालकर्ताओं को इसके बारे में चर्चा करने से हाथ नहीं खींचने चाहिए।
  • किसी बात के बारे में चर्चा न करने से बच्चों को और भी अधिक चिंता हो सकती है। विश्वसनीय स्रोतों से तथ्य प्रदान करके अपने बच्चे को सूचित महसूस करने में उसकी मदद करें। यह दोस्तों या सोशल मीडिया से सुनाई देने वाली बातों की तुलना में उन्हें और भी अधिक आश्वासन देता है।

बच्चे के अनुकूल ईमानदारी का प्रयोग करें

  • अपने बच्चे की आयु के बारे में सोचें। उन्हें समझ में आने वाली भाषा का प्रयोग करते हुए जानकारी प्रदान करें।
  • यदि आप सभी बातों का उत्तर नहीं दे सकते/सकती हैं, तो भी ठीक है; अपने बच्चे के लिए बस उपलब्ध रहना ही मायने रखता है।
  • ईमानदारी के साथ और स्पष्ट रूप से उत्तर देने की अपनी पूरी कोशिश करें। एक बार में बहुत अधिक जानकारी साझा न करें, क्योंकि यह काफी भारी हो सकता है।
  • अपने बच्चे से बात करते समय सकारात्मक बने रहने की कोशिश करें।
  • इस तरह से बात न करने की कोशिश करें जिससे आपका बच्चा और भी अधिक चिंतित महसूस करे।

अपने बच्चे का मार्गदर्शन करें

  • अपने बच्चे को ऐसी कोई भी बात बताने के लिए कहें, जो उसने COVID–19 के बारे में सुनी है और पूछें कि वह कैसा महसूस कर रहा है।
  • उसे प्रश्न पूछने के लिए अवसर दें। प्रश्नों के उत्तर देने और अपने बच्चे का ध्यान रखने के लिए तैयार रहें।
  • कुछ बच्चे खुद से अधिक दूसरों के बारे में चिंता करेंगे। उन्हें फेसटाइम जैसी तकनीकों का उपयोग करके परिवार और दोस्तों के साथ यथासंभव संलग्न होने का अवसर दें।

आश्वासन दें

  • अपने बच्चों और अन्य लोगों के साथ आप जिस प्रकार की भाषा का उपयोग करते/करती हैं, उसका ध्यान रखें। याद रखें कि बच्चे वयस्कों के बीच बातचीत को इस समय सामान्य से अधिक सुन रहे होंगे।
  • अपने बच्चे की आशंकाओं को अनदेखा न करें। उनका चिंतित होना सामान्य बात है, क्योंकि उन्हें पहले कभी भी इस तरह का अनुभव नहीं हुआ है।
  • अपने बच्चे को बताएँ कि पूरी दुनिया–भर के डॉक्टर और वैज्ञानिक COVID–19 के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त करने और हमें सुरक्षित रखने के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

आप सुरक्षित रहने के लिए क्या कर रहे/रही हैं, उसपर ध्यान केंद्रित करें

  • जो कुछ भी हो रहा है, उन्हें इसपर कुछ नियंत्रण दें। सामाजिक दूरी बनाए रखने, हाथ धोने और इन कार्यों को सही तरीके से करने का महत्व सिखाएँ। दूसरों को खाँसी और छींक से सुरक्षित रखने के लिए उन्हें अपनी जिम्मेदारी की याद दिलाएँ।
  • यदि बच्चे लोगों को फेस मास्क पहने हुए देखते हैं, तो उन्हें समझाएँ कि वे लोग अतिरिक्त रूप से सतर्क हैं, लेकिन अधिकाँश लोगों के लिए फेस मास्क पहनने की आवश्यकता नहीं हैं।
  • यदि वे या उनके परिवार असुरक्षित हैं, तो उन्हें 000 पर कॉल करने के लिए याद दिलाएँ।

एक दिनचर्या का पालन करें

  • प्रतिदिन भोजन और सोने के लिए नियमित समय बनाए रखना बच्चों को खुश और स्वस्थ रखने का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।
  • जितना संभव हो सके, एक दैनिक दिनचर्या बनाएँ। अपने परिवार के साथ एक साझा समय सारिणी बनाएँ और इसे फ्रिज पर लगाकर रखें, जहाँ इसे सभी देख सकें।
  • घर से बाहर के लिए समय, खेलने के लिए समय, तकनीकी उपकरणों के साथ बिताने के लिए समय, रचनात्मक समय और सीखने के लिए समय जैसी बातों को शामिल करें।
  • अनुकूलनीय होना और अपने बच्चे की आवश्यकताओं और भावनात्मक मनोस्थिति के बारे में प्रतिक्रिया देना ठीक है।

बात करते रहना जारी रखें

  • यह पता करें कि आपके बच्चे को पहले से ही क्या पता है या क्या चिंताएँ हैं। यह पता लगाना महत्वपूर्ण है कि क्या उन्होंने कोई गलत जानकारी सुनी है।
  • ऐसे प्रश्न पूछें जिनका उत्तर केवल हाँ या नहीं न हो।
  • यदि आपका बच्चा आपसे प्रश्न पूछता है और आपको इसका उत्तर नहीं पता है, तो उसे सही–सही बताएँ। प्रश्न का उपयोग साथ–मिलकर जानकारी हासिल करने के एक अवसर के रूप में करें।
  • यदि आपके बच्चे रुचि नहीं लेते हैं या बहुत सारे प्रश्न नहीं पूछते हैं, तो यह भी ठीक है।
  • उन्हें बताएँ कि हम सब सुनते और बात करते रहेंगे।

बातचीत को ध्यान से बंद करें

  • बातचीत के बाद बच्चों को संकट की स्थिति में नहीं छोड़ना महत्वपूर्ण होता है।
  • जब आप अपनी बातचीत को बंद करते/करती हैं, तो उनकी चिंताओं के चिह्नों के लिए देखें। यह उनकी आवाज़ के स्वर, उनकी साँस या शारीरिक भाषा में परिवर्तन के रूप में हो सकता है।

अपने बच्चों के व्यवहार में किन बातों के लिए देखना चाहिए

बच्चों और युवाओं में संकट के लक्षण दिखना सामान्य होता है। सामान्य प्रतिक्रियाओं में शामिल हैं:

  • भय और चिंता 
  • क्रोध, हताशा और भ्रम
  • उदासी
  • अस्वीकृति

अपनी देखभाल करना भी याद रखें

  • यदि आपको लगता है कि आपको व्याकुलता का एहसास हो रहा है, तो अपने बच्चे के साथ बातचीत करने या उसके प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास करने से पहले स्वयं शाँत होने के लिए कुछ समय निकालें।
  • यदि आप चिंतित या भयभीत महसूस कर रहे/रही हैं, तो अपने बच्चे को बताएँ कि आप जानकारी की खोज करेंगे/करेंगी और जल्दी ही उनसे बात करेंगे/करेंगी।
  • आपके मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण के लिए निम्नलिखित बाहरी सँसाधन भी उपलब्ध हैं:
    • headspace – परिवार और मित्रों के लिए
    • Beyondblue – COVID–19
    • Lifeline – COVID–19के  प्रकोप के दौरान मानसिक स्वास्थ्य और कल्याण

अतिरिक्त संसाधन

अपने बच्चे के साथ बातचीत करते समय आपको समर्थन देने के लिए

  • Raising Children Network ऑस्ट्रेलिया में कोरोनावायरस (COVID–19) और बच्चे
  • Emerging Minds – कोरोनावायरस के प्रकोप के दौरान बच्चों को समर्थन देना
  • KidsHealth – कोरोनावायरस (COVID–19): अपने बच्चे के साथ कैसे बात करें
  • eSafety Office ईसेफ्टी कार्यालय:
    • COVID–19: स्कूलों और शिक्ष्ण को ऑनलाइन सुरक्षित रखना
    • COVID–19: माता–पिता और देखभालकर्ताओं के लिए ऑनलाइन सुरक्षा किट

बच्चों और युवाओं के साथ साझा करने के लिए

  • headspace – नॉवेल कोरोनावायरस से जुड़े तनाव का सामना कैसे करें
  • ReachOut – कोरोनावायरस के दौरान  चुनौतियों का सामना करना

शिशु-देखभाल और बालवाड़ी में फिर से वापिस आना।(Returning to child care and kindergarten)

सोमवार 5 अक्टूबर से।

महानगरीय मेलबर्न तथा विक्टोरिया के क्षेत्रीय और ग्रामीण इलाकों के सभी बच्चे

  • शिशु देखभाल [दिवसकालीन देखभाल (लांग डे केयर) या पारिवारिक दिवसकालीन देखभाल (फैमिली डे केयर)] में फिर से आ सकते हैं और स्थल पर बालवाड़ी सत्र में शामिल हो सकते हैं।
  • यह विक्टोरिया को खोलने के लिए विक्टोरियाई सरकार के मार्गपथ के तीसरे चरण का हिस्सा है।

मार्गपथ के चरण कोरोनावायरस (COVID-19) के मामलों में गिरावट होने पर निर्भर करते हैं। हमें विक्टोरिया के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी की सलाह के आधार पर परिवर्तन करने की आवश्यकता हो सकती है।

हम समझते हैं कि आप अपने बच्चे/अपनी बच्ची की सुरक्षा को लेकर चिंतित हो सकते/सकती हैं। हमारे पास जो सलाह उपलब्ध है, उसके आधार पर शिशु-देखभाल और बालवाड़ी कोरोनावायरस (COVID-19) के कम खतरे वाले सुरक्षित स्थान होते हैं।

हमें

  • विक्टोरिया के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी और
  • ऑस्ट्रेलियाई स्वास्थ्य संरक्षण प्रधान समिति (एएचपीपीसी) [Australian Health Protection Principal Committee (AHPPC)] द्वारा यह बताया गया है।

लॉक-डाउन नियमों के हिस्से के रूप में शिशु-देखभाल और बालवाड़ियों में स्थल पर उपस्थिति में परिवर्तन किए गए थे। ये नियम इसलिए बनाए गए थे ताकि हमारे समुदाय में लोगों का आना-जाना कम हो सके। इन्हें इसलिए नहीं बनाया गया था क्योंकि शिशु-देखभाल और बालवाड़ियाँ बच्चों या कर्मचारियों के लिए असुरक्षित स्थान हैं।

आपके बच्चे/आपकी बच्ची की शिशु-देखभाल या बालवाड़ी के पास एक COVIDSafe योजना होगी। इसमें लागू किए गए स्वास्थ्य और सुरक्षा से संबंधित कार्य शामिल होते हैं, जैसे कमरों और उपकरणों की नियमित रूप से सफाई।

शिशु-देखभाल या बालवाड़ी में शामिल होना सभी बच्चों के लिए महत्वपूर्ण होता है। उन्हें इसमें शामिल होना ही चाहिए, क्योंकि यह उनके सीखने और विकास के लिए आवश्यक होता है। 2021 में अपने बच्चे को प्रेप शुरू करने के लिए तैयार बनाना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

2021 में प्रेप शुरू करने वाले बच्चों के लिए स्कूल तैयार होंगे। (Schools will be ready for children starting Prep in 2021)

बालवाड़ियाँ और स्कूल साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं, ताकि आपके परिवार और बच्चे/बच्ची को 2021 में प्रेप में ट्रांजिशन (अवस्थांतर) करने के लिए सहायता मिल सके।

स्कूल में टर्म 1 ऐसे बच्चों की सहायता करने के बारे में होगा, जो नियोजित तरीके के अनुसार इस वर्ष स्थल पर चार साल की उम्र के बच्चों की बालवाड़ी में उपस्थित नहीं हो पाए थे।

2021 में प्रेप शुरू करने में बच्चों को समर्थन देने के लिए स्कूल अनेकानेक प्रकार के कार्य कर रहे हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • ऑनलाइन रूप से स्कूल और कक्षाओं में आना-जाना
  • 'प्रधानाचार्य से मिलें' वीडियो
  • ‘प्रेप टीम से मिलें' वीडियो कॉन्फ्रेंस
  • बालवाड़ी और प्रेप शिक्षक मुलाकातें
  • कक्षा 5 के विद्यार्थियों को प्रेप बडीज़ बनने के लिए प्रशिक्षण।

यदि आपने अपने बच्चे/अपनी बच्ची को 2021 में प्रेप शुरू करने के लिए भर्ती नहीं किया है, तो हम आपको अब स्कूलों का चयन करने पर विचार करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। अपने बच्चे/अपनी बच्ची को यथाशीघ्र भर्ती करना सबसे अच्छा है। शिक्षा और प्रशिक्षण विभाग [Department of Education and Training] की वेबसाइट पर स्कूल शुरू करने के बारे में उपयोगी जानकारी उपलब्ध है।

2021 में प्रेप कैसा दिखाई देगा, इसके बारे में आपको अपने बच्चे के स्कूल के स्टाफ से बात करनी चाहिए। आपके बच्चे/आपकी बच्ची के बालवाड़ी शिक्षक भी उसे बालवाड़ी से स्कूल में ट्रांजिशन (अवस्थांतर) करने की योजना बनाने में सहायता दे सकते हैं।

क्या आपको दुभाषिए की आवश्यकता है?

दुभाषिए की व्यवस्था करने के लिए अपनी बालवाड़ी को 9280 1955 पर कॉल करने या इस वेबसाइट पर जाने के लिए कहें।

स्वस्थ और सुरक्षित बने रहने के लिए आप क्या कर सकते/सकती हैं। (Things you can do to stay healthy and safe)

आपकी शिशु-देखभाल या बालवाड़ी आपके बच्चों और आपके परिवार को सुरक्षित रखने में सहायता देने के लिए

  • प्रत्येक दिन जब बच्चे केंद्र या बालवाड़ी में आएंगे, तो उनके तापमान की जाँच करेगी
  • नियमित रूप से भवनों और उपकरणों की साफ-सफाई करेगी
  • वयस्कों को फेस मास्क पहनने के लिए कहेगी।
  • जो बच्चे या माता-पिता अस्वस्थ महसूस कर रहे हैं, उन्हें घर पर रहने के लिए प्रोत्साहित करेगी। वे आपको कोरोनावायरस (COVID-19) के संक्रमण की जाँच कराने के लिए प्रोत्साहित भी करेंगी।

हम आपसे इस बात का आग्रह भी करते हैं कि आप अपने परिवार के साथ घर में अच्छी स्वच्छता-प्रथाओं का पालन करने के बारे में बात करें, जिनमें ये कार्य शामिल हैंः

  • शिशु-देखभाल या बालवाड़ी में आने से पहले अपने हाथ धोना या हैंड सैनिटाइज़र का प्रयोग करना।
  • घर से बाहर निकलने पर पूरे समय फेस मास्क पहनना, जिसमें शिशु-देखभाल या बालवाड़ियों में आते समय फेस मास्क पहनना भी शामिल है।
  • जो लोग आपके साथ नहीं रहते हैं, उनसे 1.5 मीटर की दूरी बनाए रखना। इसमें आपके बच्चे/आपकी बच्ची के शिशु-देखभाल केंद्र या बालवाड़ी के कर्मचारी और अन्य परिवार शामिल हैं।
  • खाँसी और छींक आते समय टिश्यु या अपनी कोहनी से नाक-मुँह ढकना। खाँसी या छींक आने के बाद हमेशा अपने हाथों को धोना।
  • यदि बीमार महसूस हो, तो घर पर ही रहना। यदि आपको बीमार महसूस होता है, तो आपको कोरोनावायरस (COVID-19) के संक्रमण की जाँच करानी चाहिए। जब तक आपको फिर से स्वस्थ महसूस नहीं होता है, तब तक घर पर ही रहना।

Reviewed 17 November 2020

24/7 Coronavirus Hotline

If you suspect you may have COVID-19 call the dedicated hotline – open 24 hours, 7 days.

Please keep Triple Zero (000) for emergencies only.

Was this page helpful?